Notification

×

ad

ad

जस्टिस श्री ललित बने देश के 49वें चीफ जस्टिस मुख्यमंत्री चौहान ने दी बधाई

शनिवार, 27 अगस्त 2022 | अगस्त 27, 2022 WIB Last Updated 2022-08-27T17:11:09Z
    Share

भोपाल :  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने न्यायमूर्ति श्री उदय उमेश ललित को भारत का 49वां मुख्य न्यायाधीश बनने पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विश्वास व्यक्त किया कि मुख्य न्यायाधीश justice uu lalit देश की महान विरासत को आगे बढ़ाएंगे और देश के सर्वोच्च न्यायालय में लोगों के विश्वास को मजबूत करना जारी रखेंगे।


justice uu lalit


सीधे बार से सुप्रीम कोर्ट जज बने 


जस्टिस ललित का जन्म 9 नवंबर 1957 को महाराष्ट्र के सोलापुर में हुआ था। उनका पूरा नाम उदय उमेश ललित है (Uday Umesh Lalit) । उन्होंने 1983 में बॉम्बे हाई कोर्ट में वकालत की शुरुआत की। सिर्फ तीन साल बाद 1986 में वह दिल्ली आ गए और यहां अपनी वकालत शुरू की। इसके बाद साल 1992 में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में वकालत की शुरुआत की। वहीं, साल 2004 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट के सीनिय़र वकील के रूप में नामित किया गया। 

बार से सीधे सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस के तौर पर नियुक्ति

13 अगस्त 2014 को उन्हें बार से सीधे सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस के तौर पर नियुक्त किया गया था। जस्टिस ललित को 2014 में सीधे बार से सुप्रीम कोर्ट का न्यायाधीश बनाया गया था। इससे पहले 1971 में जस्टिस एसएम सीकरी पहले ऐसे चीफ जस्टिस थे जो सीधे बार से आए थे। 10 अगस्त को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने उनकी देश के 49वें सीजेआई के रूप में नियुक्ति की थी। आज शनिवार को उन्होंने पद और गोपनीयता की शपथ ली। 


न्यायिक प्रक्रिया से जुड़ी हैं चार पीढ़ियां 


भारत के 49वें मुख्य न्यायाधीश बने जस्टिस यूयू ललित पर भले ही न्यायाधीशों की नियुक्ति से लेकर महत्वपूर्ण संवैधानिक प्रश्नों जैसी चुनौतियां हों, लेकिन उनकी न्यायिक विरासत का अनुभव भी उनके पास होगा। दरअसल, चार पीढ़ियों से यूयू ललित का परिवार न्यायिक प्रक्रिया से जुड़ा हुआ है। जस्टिस ललित के दादा रंगनाथ ललित आजादी से पहले सोलापुर में एक वकील थे। जस्टिस यूयू ललित के 90 वर्षीय पिता उमेश रंगनाथ ललित भी एक पेशेवर वकील रह चुके हैं। बाद में उन्होंने उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में कार्य किया।


पत्नी चलाती हैं स्कूल


भारत के नए सीजेआई की पत्नी का नाम अमिता ललित है, जो कि नोएडा में एक स्कूल का संचालन करती हैं। इसके अलावा जस्टिस ललित के दो बेटे हर्षद और श्रेयश, जिन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। हालांकि, बाद में श्रेयश ललित ने भी कानून की ओर रुख किया। उनकी पत्नी रवीना भी वकील हैं। वहीं, हर्षद अमेरिका में हैं, वे वहां रिसर्च के क्षेत्र में काम कर रहे हैं। हर्षद की पत्नी का नाम राधिका है। 


कई अहम फैसलों का हिस्सा रहे हैं जस्टिस ललित


जस्टिस यूयू ललित सुप्रीम कोर्ट के कई ऐतिहासिक फैसलों का हिस्सा रहे हैं। तीन तलाक को असांविधानिक करार देने वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ के भी सदस्य थे। जस्टिस ललित की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने त्रावणकोर के तत्कालीन शाही परिवार को केरल के ऐतिहासिक श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर का प्रबंधन करने का अधिकार दिया था। यह सबसे अमीर मंदिरों में से एक है।


जस्टिस ललित की पीठ ने ही ‘स्किन टू स्किन टच’ पर फैसला दिया था। इस फैसले में माना गया था कि किसी बच्चे के शरीर के यौन अंगों को छूना या ‘यौन इरादे’ से शारीरिक संपर्क से जुड़ा कृत्य पॉक्सो अधिनियम की धारा-7 के तहत ‘यौन हमला’ ही माना जाएगा। पॉक्सो अधिनियम के तहत दो मामलों में बॉम्बे हाईकोर्ट के विवादास्पद फैसले को खारिज करते हुए जस्टिस ललित की पीठ ने कहा था कि हाईकोर्ट का यह मानना गलती था कि चूंकि कोई प्रत्यक्ष ‘स्किन टू स्किन’ संपर्क नहीं था इसलिए यौन अपराध नहीं है।


जस्टिस ललित उस पीठ में भी थे, जिसने कहा था कि हिंदू विवाह अधिनियम की धारा-13 बी (2) के तहत आपसी सहमति से तलाक के लिए निर्धारित छह महीने की प्रतीक्षा अवधि अनिवार्य नहीं है। हाल ही में जस्टिस ललित की अध्यक्षता वाली पीठ ने भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को अदालत की अवमानना के आरोप में चार महीने के कारावास और 2000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जुड़े श्रीराम दूत नेटवर्क से

ad

लोकप्रिय पोस्ट