Notification

×

ad

ad

हरिद्वार के प्रमुख शाही स्नान

गुरुवार, 11 मार्च 2021 | मार्च 11, 2021 WIB Last Updated 2021-04-01T09:36:05Z
    Share
कुंभनगरी हरिद्वार में पहले शाही स्नान का आगाज हो गया है। महाशिवरात्रि के मौके पर आज सभी सात संन्यासी अखाड़े शाही स्नान कर रहे हैं। सबसे पहले जूना अखाड़े के संतों ने स्नान किया। इसके बाद अग्नि अखाड़ा, आह्वान अखाड़ा और फिर किन्नर अखाड़े के संतों ने शाही स्नान किया किन्नर अखाड़ा पहली बार हरिद्वार कुंभ में शामिल हो हुआ है।

निरंजनी अखाड़े के संत भी स्नान कर चुके हैं। अब आनंद अखाड़े के संतों की बारी है। इससे पहले उत्तराखंड पुलिस के बैंड ने नमो शिवाय की धुन बजाकर साधुओं के शाही स्नान का से किया। हर की पौड़ी पर आज सिर्फ साधु-संत ही स्नान कर रहे हैं। इसको देखते हुए कई घाटों को खाली कराया गया है। शाम साढ़े छह बजे के बाद ही आम लोग हर की पौड़ी पर स्नान
कर सकेंगे।

इस बार सरकार ने कोरोना के चलते कुंभ की अवधि को चार महीने से घटाकर एक महीने का कर दिया है। सरकार के नोटिफिकेशन के मुताबिक कुंभ 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक ही होगा, लेकिन पहला शाही स्नान अखाड़ों की परम्परा के  मुताबिकमहाशिवरात्रि के दिन से ही शुरू हो रहा है।

12, 14 और 27 अप्रैल को अगला शाही स्नान


आने वाले शाही स्नान जो 12, 14 और 27 अप्रैल को होने हैं,उनमें अखाड़ों का क्रम बदला हुआ होगा। आने वाले स्नानों में निरंजनी अखाड़ा पहले स्नान करेगा। अखाड़ा परिषद की बैठकों में सभी अखाड़े इस क्रम पर तैयार हुए हैं और सबको उनके स्नान का अलग-अलग समय आवंटित किया गया है।

सिर्फ साधु-संत ही स्नान कर सकेंगे


शाही स्नान को देखते हुए मेला प्रशासन और जिला प्रशासन के साथ ही हजारों की संख्या में पुलिसकर्मी और पैरामिलिट्री फोर्स हरिद्वार में तैनात कर दिए गए हैं। बड़े कॉमर्शियल ट्रकों और भारी वाहनों की शहर में एंट्री बैन कर दी गई है और कई जगह रूट डायवर्ट किए गए हैं।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से 20 टीमों का गठन किया गया  हरिद्वार में मेलाधिकारी दीपक रावत, जिलाधिकारी सी. रविशंकर एवं कुंभ मेला पुलिस महानिरीक्षक संजय गुंज्याल ने मेला नियंत्रण भवन के सभागार में बुधवार को महाशिवरात्रि पर्व एवं शाही स्नान को सकुशल संपन्न कराने के लिए आयोजित बैठक में अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए। इसमें कोरोना को लेकर केंद्र व राज्य सरकार द्वारा जारी एसओपी का पूरी तरह पालन कराए जाने की बात प्रमुखता से दोहराई गई।

कोविड नेगेटिव रिपोर्ट लाने वालों को ही मेला परिसर में एंट्री दी जाएगी। मेलाधिकारी ने यह भी कहा कि महाशिवरात्रि शाही स्नान को गंभीरता से लेते हुए होटल, धर्मशालाओं, लॉज आदि में ठहरे श्रद्धालुओं की भी कोविड जांच की जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से 20 टीमों का गठन किया गया है। टीम के साथ दो पुलिसकर्मी भी सुरक्षा की दृष्टि से तैनात रहेंगे।