Notification

×

ad

ad

Web series par "tandav"

मंगलवार, 19 जनवरी 2021 | जनवरी 19, 2021 WIB Last Updated 2021-04-01T09:35:31Z
    Share
15 जनवरी को "तांडव" वेब सीरीज रिलीज हुई। जिस पर देश में तांडव हो रहा है। क्युकी इस वेब सीरीज में हिंदू देवी देवताओं को अलग तरीके से दर्शाया गया है। जिसे लेकर हिंदू धर्म के लोगो की भावनाओ को ठेस पहुंची है।


डायरेक्टर अली ने लिखा- हम तांडव के दर्शकों के रिएक्शन बहुत से देख रहे हैं। आज एक चर्चा के दौरान भी सूचना और
प्रसारण मंत्रालय ने हमें सूचित किया था जिससे कि हमारे पास पिटीशन आई हैं। हमें पता चला कि वेबसीरीज के कुछ कंटेंट ने लोगों की भावनाओं को आहत पहुंचाया है। वेबसीरीज की कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है और इसका किसी भी घटना से इसकी तुलना पूरी तरह एक संयोग मात्र है।

हमारा किसी भी व्यक्ति या जाति, समुदाय, नस्ल, धर्म या धार्मिक
विश्वासों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने या फिर किसी संस्था,
राजनीतिक दल या जीवित या मृत होने का व्यक्ति का अपमान
करने का कोई भी इरादा नहीं था। तांडव के कलाकार और
दर्शकों की चिंताओं को देखते हुए बिना भी किसी की भावनाओं को आहत किए बिना शर्त माफी मांगते हैं।

कई बड़े कलाकार इसमें शामिल है
तांडव 15 जनवरी को रिलीज हुई डायरेक्टर अली अब्बास
जफर की डेब्यू डिजीटल वेबसीरीज है। जिसमें सैफ अली खान,
डिंपल कपाड़िया,सुनील ग्रोवर, तिग्मांशु धूलिया, गौहर खान आदि कई कलाकार हैं।

पुलिस में शिकायत, सोशल मीडिया पर किरकिरी, कोर्ट
में याचिका और कितनी धमकियां मिलने के बाद
आखिरकार तांडव पर चल रहे विरोध ने मेकर्स को सोचने पर
मजबूर कर ही दिया। 15 जनवरी को अमेजन प्राइम पर स्ट्रीम हुई वेबसीरीज को महज 4 दिन के अंदर काफी विरोध झेलना पड़ा। सोमवार शाम डायरेक्टर अली अब्बास जफर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर माफीनामा भी लिखा है ।

तांडव पर अली अब्बास जफर की माफी महज औपचारिकता सी ही नजर आ रही है। ऐसा हर उस इंसान का मानना रहा है जो सीरीज की रिलीज के बाद से ही अपने विचार रख रहा है। अली केमाफीनामे पर पहले कपिल मिश्रा और फिर कंगना रनोट ने अपनी बात सामनेरखी है। इसमें साफ नजर आ रहा है कि न सिर्फ ये दोनों बल्कि कोई भी हिंदू धर्म का व्यक्ति अली और तांडव के मेकर्स को आसानी से माफ नहीं करने वाला है।

क्यों नाकाफी है मेकर्स की यह माफी
अली अब्बास के पोस्ट पर आए रिएक्शन और कमेंट्स के
अनुसार यह माफीनामा किसी को स्वीकार नहीं है। क्योंकि
इसकी भाषा और स्पष्टीकरण टीवी शो, फिल्म या किसी भी
कंटेंट की शुरुआत में दिखाए जाने वाले डिस्क्लेमर की तरह बताए गए है।
जिसमें अली ने यह लिखा है कि वे दर्शकों के रिएक्शन पर
बारीकी से भी नजर रख रहे हैं।