Notification

×

ad

ad

राम मंदिर के निर्माण के लिए धन संग्रह चालू -

शुक्रवार, 15 जनवरी 2021 | जनवरी 15, 2021 WIB Last Updated 2021-04-01T09:35:25Z
    Share
15 जनवरी से 15 फरवरी तक एक अभियान चलेगा। जिसमें मध्यप्रदेश से 6.5 करोड़ लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य है।इसमें
अयोध्या के राम मंदिर निर्माण के लिए धन संग्रह अभिया किया गया है। मध्य प्रदेश में शुरुआत मुख्यमंत्री
शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गई। उन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिए 1 लाख रुपए का चेक विश्व हिंदू परिषद केमंत्री विनायक राव देशमुख को देकर किया। इस पर मुख्यमंत्री
ने कहा कि आज का दिन मेरे जीवन का सबसे गौरवशाली
दिन है। क्युकी श्री राम मंदिर निर्माण में एक ईंट हमारे परिवार की भी लगेगी। अयोध्या में सिर्फ राम मंदिर का नहीं बल्कि राष्ट्र मंदिर का भी निर्माण हो रहा है। उन्होंने कहा - श्री राम
भारत की पहचान हैं। राम हमारे आराध्य हैं, भगवान हैं। श्रीराम के बिना यह राष्ट्र पहचाना ही नहीं जा सकता। यह सभी का सौभाग्य है कि मंदिर का निर्माण जन के सहयोग से
प्रारंभ होने जा रहा है। एक गिलहरी की तरह सभी को भी अपना योगदान देने का सौभाग्य मिला है।।

इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री विनायक राव देशमुख ने कहा कि 15 जनवरी से 15 फरवरी तक चलने वाले अभियान के जरिए देश के 13 करोड़ परिवारों से संपर्क किया जावेगा। और पूरे देश में उत्साह अभियान के साथ दुनिया के इतिहास में सबसे बड़ा संपर्क अभियान भी है ।
इस अभियान से ही राम मंदिर का निर्माण होगा । उनके द्वारा कहा गया कि श्रीराम ने सामाजिक समरसता और महिला सम्मान के लिए कई प्रयत्न किए थे। अब वैसे ही भाव से निर्माण समाज में होगा चाहिए।
देश की 60 करोड़ की आबादी में राष्ट्रीयता का संदेश भी जाएगा। इससे संस्कृति, धर्म और देश के प्रति श्रृद्धा भाव पैदा हो सकेगा और साथ में देश के विकास और चरित्र का भी निर्माण होगा। इस अभियान के
जरिए सिर्फ मप्र में 6.5 करोड़ लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य बनाया है। भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने अपना वेतन में से मंदिर निर्माण के लिए 1 लाख, 11 हजार 111 रुपए का योगदान दिया है।

सिर्फ मध्य भारत प्रांत से ही जुटा लिए 10 करोड़ रुपए-
अभियान के शुरु होने से पहले मध्य भारत प्रांत में 10 करोड़
रुपए से ज्यादा श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ न्यास के नाम पर
प्राप्त हो चुकी है। न्यास की ओर 10 रुपए से लेकर 2 हजार रुपए तक के कूपन भी जारी किए हैं, जबकि 20 हजार रुपए तक का सहयोग नगद और इससे अधिक राशि चेक के माध्यम से ली जा रही है।

मंत्री और विधायक टोलियों के साथ जाएंगे सहयोग राशि लेने -

मंत्री और विधायकों के साथ नेताओं को कूपन और रसीदें नहीं
दी गई है। वे धन संग्रह के लिए बनी टोलियों के साथ जाएंगे।
न्यास के पास एक जानकारी के अनुसार ओल्ड सुभाष नगर के
उमेश, राजेश और राकेश शर्मा ने 5 लाख 100 रुपए और करोंद
में रहने वाले गौरीशंकर शर्मा ने 1 लाख 51 हजार रुपए की सहयोग राशि प्रदान की है।

सिर्फ मप्र के ही 50 हजार गांव तक पहुचने का लक्ष्य रखा गया है।
अभियान के दौरान मध्य प्रदेश के ही 50 हजार गांव तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है। संघ को यह उम्मीद है कि वे 1.25 करोड़ परिवारों से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए चंदा प्राप्त होगा । यह लक्ष्य देश में पहले 4 लाख गांवों और 11 करोड़ परिवारों तक पहुंचने का रखा गया था, लेकिन अब इसे ओर बढ़ाकर 5.25 लाख गांवों और लगभग 13 करोड़ परिवारों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है।

एक जनवरी से ही मंदिर का ट्रस्ट देश के बड़े उद्योग और घरानों व लखपतियों से संपर्क कर रहा है। उन्होंने कहा- मंदिर का निर्माण मकर संक्राति से शुभ पर नींव की आर्किटेक्ट डिजाइन पूरी तरह तैयार होने पर निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।

राम मंदिर के निर्माण में किसी भी प्रकार की धन की कमी आड़े न आ पाए , इसके लिए श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट ने 14 जनवरी से (मकर संक्रांति) से देश में धन संग्रह अभियान शुरु कर रहा है। लेकिन इससे पहले ही रामभक्त मंदिर निर्माण के लिए धनवर्षा होने लगी है। जनवरी माह के 7 दिनों में ही देश के कई उद्योग और घरानों से ट्रस्ट को 27 करोड़ की समर्पण राशि का ऑफर मिल चुका है।अब बड़े स्तर पर धन संग्रह अभियान का शुरू हो रहा है। ऐसे में ट्रस्ट को उम्मीद है ।की 700 करोड़ रुपए की धनराशि खाते में जमा हो जाएगी।

दो भागों में बांटकर शुरू किया जाएगा। धन संग्रह अभियान

ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरि ने यह बताया कि
विश्व हिंदू परिषद (VHP) और मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारी राम मंदिर निर्माण के लिए एक सूत्रीय धन संग्रह अभियान में जुटे हैं।
इसके बाद 15 जनवरी से 27 फरवरी तक निधि समर्पण का
अभियान व्यापक तौर पर चलाया जाएगा । जिसमें गरीब से लेकर अमीर तक सभी
से संपर्क कर लोगों को राम मंदिर निर्माण कार्यक्रम से
जोड़ा जाएगा। जिसमें 4 लाख गांवों के 11 करोड़ परिवारों तक
पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है। स्वामी गिरि ने यह भी बताया है कि कोई लक्ष्य इस अभियान में धन राशि जमा करने के लिए नहीं रखा गया है। फिर भी उनका अनुमान के अनुसार करीब 700 करोड़ की धनराशि इस अभियान में जमा की जाएगी।

राम मंदिर निर्माण के लिए करोड़ों का दान करने लिए लोग आगे आए -
कोषाध्यक्ष के मुताबिक, बड़ी धनराशि संग्रह संपर्क अभियान में
लोग लाख व करोड़ रुपए का दान देने के लिए आगे आ रहे
हैं। उन्होंने खुद जयपुर, जोधपुर, हैदराबाद, कोलकाता व पुणे के
लोगों से करोड़ रुपए की राशि मंदिर के लिए पेशकश की है।
जिसे रसीद काट कर जमा करवाया जा रहा है। बताया जा रहा है। कि जयपुर व जोधपुर के 7 लोगों ने एक-एक करोड़ की राशि का दान करने प्रस्ताव रखा है ।

ad

लोकप्रिय पोस्ट