Notification

×

ad

ad

जनवरी 2021 गणतंत्र दिवस के नए नियम और झाकियां ,chief guest

बुधवार, 30 दिसंबर 2020 | दिसंबर 30, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:35:00Z
    Share
इस साल 26 जनवरी ,2021 को होने वाले गणतंत्र दिवस कई मायनों में अलग होगा । कोरोना महामारी के कारण गणतंत्र दिवस पर कई नियमों में बदलाव होगा । हालांकि राजपथ पर निकलने वाली झांकीया निकलेगी और झांकियों पर इस बार सब की नजर होगी । क्योंकि यह झाकीयां कई मायनों में अलग होगी ।तो आइए जानते हैं इस बार होने वाले गणतंत्र दिवस के नए नियम और झांकियों के बारे में

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण गणतंत्र दिवस 2021 पर होने वाली परेड देखने के लिए जो आने वाले दर्शकों होंगे उनकी संख्या पर अंकुश लगाया जाएगा। कोरोना संकट के चलते परेड देखने वाले पर्यटकों के बैठने की व्यवस्था को सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए तैयारी की जा रही है, ऐसी स्थिति में पर्यटकों की संख्या सीमित की जाएगी । बच्चों को इस बार गणतंत्र दिवस परेड में शामिल नहीं किया जाएगा और ना ही वे राजपथ पर आ पाएंगे क्योंकि इस बार गणतंत्र दिवस नियम के अनुसार 15 साल के ऊपर के लोगों को ही आने दिया जावेगा। दिव्यांग लोगों को भी गणतंत्र दिवस के समारोह में शामिल नहीं किया गया है।

भाषा एवं संस्कृति विभाग की झांकी में अटल टनल-
भाषा एवं संस्कृति विभाग दिल्ली में होने वाली गणतंत्र दिवस परेड के लिए हर साल मॉडल भेजता है। इस बार संस्कृति विभाग ने रक्षा मंत्रालय को तीन मॉडल भेजे थे, इनमें से रक्षा मंत्रालय ने अटल टनल रोहतांग के मॉडल को प्रस्तुत करने के लिए कहा है। रोहतांग टनल के मॉडल का पहले थ्री-डी वीडियो बनाया जाएगा.और इस वीडियो को पहले रक्षा मंत्रालय को भेजा जाएगा। फिर हि रक्षा मंत्रालय मॉडल को गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल करने का निर्णय लेगा।

राजपथ पर दिखेगा राम मंदिर जैसा मॉडल -
हमेशा की तरह इस बार भी दिल्ली के राजपथ पर कई झांकियां निकलेगी पर इसमें से एक झांकी पर नजर सभी की टिकी होगी ।क्योंकि उत्तर प्रदेश की झांकी में अयोध्या के भव्य राम मंदिर का मॉडल भी शामिल किया गया है। अयोध्या में होने वाले हर साल दीपोत्सव को भी झांकी में दिखाया जाएगा। और अंतरराष्ट्रीय ख्याति के मृदंगाचार्य रामशंकरदास की मूर्ति भी दिखाएगी।
26 January 2021 को गणतंत्र दिवस पर मेहमान के रूप में
मुख्य अतिथि हो सकते हैं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन हो सकते हैं।


गणतंत्र दिवस का इतिहास
गणतंत्र दिवस - गणतंत्र दिवस वह दिन होता है, जब भारत का संविधान को स्वीकार करने का स्मृति दिवस मनाया जाता है।
भारत ने 26 जनवरी 1950 में भारत के संविधान के अधिनियमित किया था। संविधान भारत का शासी दस्तावेज बन गया। और गणतंत्र राष्ट्र के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत किया।इसी कारण हम 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाते हैं।

गणतंत्र दिवस भारत में 26 जनवरी को प्रतिवर्ष मनाया जाता है। यह तारीख 1930 में भारत की स्वतंत्रता की घोषणा के बाद से ही मनाया जाता आ रहा है।