Notification

×

ad

ad

सुप्रीम कोर्ट के महत्वपूर्ण फैसले | 2020 के सुप्रीम ऑर्डर | Current Affairs in Hindi

मंगलवार, 29 दिसंबर 2020 | दिसंबर 29, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:34:56Z
    Share



Current Affairs in Hindi :-2020 बीतने को अब कुछ ही दिन शेष रह गए हैं, और इस पूरे साल सुप्रीम कोर्ट ने कई ऐसे अहम फैसले सुनाए हैं जो कई सालों से रुके हुए थे। जैसे जम्मू कश्मीर का मामला हो या राम मंदिर मामला या फिर हो निर्भया का केस जो कई सालों से रूका हुआ फैसला था। यह सभी Current Affairs 2020 बहुत महत्वपूर्ण साबित हो सकते है। सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट ने इस साल महिलाओं के हक में ऐसे 4 ऐतिहासिक फैसले भी दिए। देश की आधी से ज्यादा आबादी को 17 वर्ष की कानूनी लड़ाई के बाद सेना में स्थाई कमीशन का हक मिला और निर्भया को इंसाफ जिसमें चारों दोषियों को फांसी दे दी गई थी। तो आइए जानते हैं सुप्रीम कोर्ट ने दिए कई अन्य महत्वपूर्ण फैसले और 2020 की विदाई के दौरान इन फैसले के बारे में जानते हैं। जिनका लंबे समय तक का असर रहेगा। 2020 के सुप्रीम ऑर्डर current affairs 2020 in hindi आइये जानते है 


सुप्रीम कोर्ट के महत्वपूर्ण फैसले | 2020 के सुप्रीम ऑर्डर | current affairs in hindi







इंटरनेट जन्मसिद्ध अधिकार है - इंटरनेट एक मौलिक अधिकार है 5 अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटी तब से यह इंटरनेट बंद था इंटरनेट से हटाने के लिए याचिका लगाई गई थी और कोर्ट ने कहा कि या मौलिक अधिकारों का हनन है यह भी कहा कि बोलने की आजादी दबाने के लिए धारा 144 लगाना सत्ता का दुरुपयोग करना होगा सुप्रीम कोर्ट ने 10 जनवरी को आदेश दिया कि इंटरनेट को अनुच्छेद 19 के तहत मौलिक अधिकार माना गया है। जिससे सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 25 जनवरी 2020 से कश्मीर में 2G इंटरनेट शुरू कर दिया गया था।हालांकि सोशल मीडिया पर बैन लगा रहा, पर 4 मार्च को सरकार ने इसे बैंकों से दिया था अब वहां पर 2जी इंटरनेट ही चल रहा है।


महिलाओं को मिला थल सेना में बराबरी का हक 


current affairs in hindi : 2 फरवरी को 17 साल बाद महिलाओं को सेना में स्थाई कमीशन मिला इसकी शुरुआत 2010 में हाईकोर्ट ने महिलाओं को स्थाई कमीशन देने की इजाजत दी थी उसके बाद 2003 में दिल्ली हाईकोर्ट में बबीता पूनिया ने भी पहली याचिका दायर की थी 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले को सही ठहराया और यह अपना फैसला स्थाई कमीशन और शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत 14 साल से कम और उससे ज्यादा सेवाएं दे चुकी महिला अफसरों को परमानेंट कमिशन का मौका दिया जाएगा। और महिलाओं को कमांड पोस्टिंग का भी अधिकार मिलेगा। इस तरह महिलाएं 20 साल तक सेना में काम कर सकेगी। हालांकि आदेश सीधे युद्ध में उतरने वाली विंग पर लागू नहीं होगा और इस कमीशन के लिए महिलाएं 17 साल से कानूनी लड़ाई लड़ रही थी।


यह भी देखे : बिहार का पहला 200 फीट ऊंचा ग्लास स्काई वॉक ब्रिज तैयार


 निर्भया को मिला इंसाफ | current affairs 2020 in hindi


7 साल,3 महीने, 4 दिन बाद मिला निर्भया को इंसाफ 13 सितंबर 2013 को निचली अदालत ने चारों दोषियों को पहले ही फांसी की सजा सुनाई थी। पर 13 मार्च 2014 को दिल्ली हाई कोर्ट ने फैसला बरकरार रखा था। उसके बाद 5 मई 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने भी चारों को फांसी का सजा सुना दी थी। पर 19 मई 2020 को दोषियों की सभी याचिकाएं खारिज कर के अगले दिन ही फांसी दे दी गई। 


शाही परिवार का पद्मनाथ मंदिर पर हक | current affairs 2020


1991 तक केरल के पद्मनाथ स्वामी मंदिर पर शाही परिवार का ही हक था और 1991 में त्रावणकोर के जो आखिरी शासक थे उनकी मौत के बाद मंदिर का प्रशासन सरकार को मिला था पर 2011 में मंदिर प्रशासन का हक केरल हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को सौंप दिया था इसके बाद 13 जुलाई 2020 को सुप्रीम कोर्ट ने शाही परिवार को मंदिर का हक दे दिया।


यह भी देखे : (CREW)क्रू-3 मिशन- अमेरिका पहली बार किसी निजी कंपनी के रॉकेट से ड्रैगन कैप्सूल में अंतरिक्ष यात्रियों को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में भेजेगी


CCA के खिलाफ शाहीन बाग में चला 3 महीने तक प्रदर्शन | current affairs in hindi


प्रदर्शन तय जगह पर - CCA के खिलाफ शाहीन बाग में 3 महीने से चला रहा था प्रदर्शन और रास्ता खुलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई गई थी सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रदर्शन के नाम पर कब्जा की मंजूरी नहीं दी जाएगी और प्रदर्शन के लिए एक तय जगह होनी चाहिए। जिससे किसी को भी मुसीबतों का सामना ना करना पड़े।


यह भी देखे : पुरस्कार एवं सम्मान से संबधित महत्वपूर्ण CURRENT AFFAIRS QUESTION


अधिक जानकारी के लिय हमारे  Whatsapp (वाट्सऐप) ग्रुप  में अभी ज्वाइन करे ……click here