Notification

×

ad

ad

सीएम हेल्पलाइन 181 अब आपके व्हॉट्सएप पर भी, जानिए व्हॉट्सएप नंबर...

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2020 | अक्तूबर 16, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:34:39Z
    Share

मध्य प्रदेश सरकार का यह बहुत बड़ा कदम है (CM Helpline WhatsApp Number) सीएम हेल्पलाइन 181 अब आपके व्हॉट्सएप पर भी उपलब्ध होगा मध्यप्रदेश शासन द्वारा सीएम हेल्पलाइन 181 पर शिकायत दर्ज करने, शिकायतों का स्टेटस जानने और योजनाओं की जानकारी लेने के लिए CM Helpline WhatsApp Number के जरिए भी सुविधा दी जा रही है।





शासन और नागरिकों के मध्य अब केवल एक कॉल का फासला है | प्रदेश की जनता को सीएम हेल्पलाइन से मिलेगी त्वरित जानकारी और होगा शिकायतों का त्वरित समाधान | सुशासन की और बेहतर बनाने की दिशा में राज्य सरकार की यह महत्वपूर्ण एवं दूरगामी पहल है |





181 अब आपके व्हॉट्सएप पर | CM Helpline WhatsApp Number





मध्यप्रदेश में सभी सुखी हो, निरोगी हो, सबका कल्याण हो, यही शासन व्यवस्था का ध्येय है इसी की पार्टी के लिए प्रदेश में सी एम् हेली 181 प्रारंभ की गई है. और अब यह सुबिधा आपके WhatsApp पर भी उपलब्ध होगी । प्रदेश की सुशासन व्यवस्था को अधिक चुस्त - दुरस्त बनाने के लिय व्हॉट्सएप पर भी संपर्क कर सकते है इस हेल्पलाइन से प्राप्त समस्याओ का निराकरण करेंगे. नम्बर नोट करे तथा यह खबर सबको शेयर जरूर करे ..





सीएम हेल्पलाइन व्हॉट्सएप नंबर+917552555582




कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिये गृह विभाग ने जारी किये नवीन निर्देश





अपर मुख्य सचिव, गृह डॉ. राजेश राजौरा ने बताया है कि कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिये नवीन दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं। सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, राजनैतिक, रामलीला एवं रावन-दहन आदि कार्यक्रमों में जन-समूह तथा धार्मिक स्थलों में पूजा-अर्चना के संबंध में जारी निर्देशों का पालन अनिवार्य रूप से कराने के निर्देश समस्त कलेक्टरों को दिये गये हैं।





धार्मिक स्थलों पर मेलों के आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे





डॉ. राजौरा ने बताया है कि खुले मैदान में सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, राजनैतिक, रामलीला एवं रावन-दहन इत्यादि कार्यक्रम मैदान के आकार को दृष्टिगत रखते हुए फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनिटाइजिंग एवं थर्मल स्केनिंग की व्यवस्था के पालन करने की शर्त पर 100 से अधिक संख्या के जन-समूह के कार्यक्रमों के लिये जिला प्रशासन से अनुमति प्राप्त करना होगी। उक्त कार्यक्रम कंटेनमेंट जोन में आयोजित नहीं हो सकेंगे। डॉ. राजौरा ने बताया कि आयोजन के लिये प्रशासन को कार्यक्रम की तिथि, समय, स्थान एवं संभावित संख्या का उल्लेख करते हुए लिखित में आवेदन करना होगा। जिला प्रशासन आवेदन पर विचार कर अनुमति प्रदान करेगा, जिसमें संख्या एवं शर्तों के पालन की जिम्मेदारी आयोजकों की रहेगी। आयोजकों को कार्यक्रम की वीडियोग्राफी 48 घंटे में जिला प्रशासन को उपलब्ध कराना होगा। डॉ. राजौरा ने बताया कि प्रदेश में आगामी आदेश तक धार्मिक स्थलों पर मेलों के आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे।





यह भी देखे : शरीर पर कीचड़ फेंका तो विरोध करने पर कि वृद्ध की पीट पीट कर हत्या





डॉ. राजौरा ने बताया है कि ऐसे धार्मिक स्थल, जहाँ श्रद्धालु बंद कक्ष अथवा हॉल में एकत्रित होते हैं, वहाँ जिला कलेक्टर द्वारा कुल उपलब्ध स्थान के आधार पर अधिकतम सीमा नियत की जा सकेगी। उपलब्ध स्थान पर श्रद्धालुओं के मध्य पूजा-अर्चना के दौरान भी दो गज की दूरी बनाये रखना जरूरी होगा। धार्मिक स्थल प्रबंधन को सुनिश्चित करना होगा कि कोविड-19 रोकथाम के लिये फेस मास्क की बाध्यता एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन धर्मावलंबियों द्वारा अनिवार्य रूप से किया जाये। उन्होंने स्पष्ट किया है कि प्रशासन द्वारा प्रदत्त अनुमति में उल्लेखित शर्तों के उल्लंघन पर भारतीय दण्ड विधान की धारा-188 के अंतर्गत वैधानिक कार्यवाही की जायेगी।
डॉ. राजौरा ने बताया है कि 18 सितम्बर, 2020 को समस्त दुकानों को रात्रि 8 बजे तक ही खोलने संबंधी आदेश को निरस्त कर दिया गया है। अब प्रदेश में दुकानें, बाजार, मॉल अपने निर्धारित समय तक खुले रह सकेंगे। उन्होंने बताया है कि उक्त आदेश 16 अक्टूबर, 2020 से सम्पूर्ण प्रदेश में आगामी आदेश तक लागू होंगे।





कृपया इस जानकरी को अन्य लोगो तक शेयर जरुर करे





खबर सीधे आपके Whatsapp (वाट्सऐप) में अभी ज्वाइन करे ……click here


ad

लोकप्रिय पोस्ट