Notification

×

ad

ad

मण्डला कलेक्टर हुई सख्त अब लूट को नियंत्रित करने हेतु कार्यवाही 2 झोला छाप की छुट्टी

रविवार, 20 सितंबर 2020 | सितंबर 20, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:33:55Z
    Share

मण्डला जिला में कोरोना महामारी का रूप लेते जा रहा है आज भी विकास खण्ड नैनपुर के हीरापुर,कामता,सहित अन्य ग्रामो में 9 कोरोना पोज़िटिव केस निकले है।लोग जागरूकता के आभाव में सरकारी होस्पिटल नही आते कोई बाहर से आ भी रहा है तो वो गावो में झोलाछाप डॉ से दिखा के इति श्री कर रहे है।जिस से गावो में कोरोना फैल रहा है।।इस सब बातों को नोटिस में लाकर कलेक्टर हर्षिका जी एक्टिव और एक्शन मोड़ पे आ गई हैं,कल भुआबिछिया सहित नैनपुर के पिंडरई में 2 झोलाछाप डॉ पर कार्य वाही हुई है।।और दोनो पिंडरई की दुकान को सील कर दिया गया है।कलेक्टर की इस कार्य वाही से हड़कंप मचा हुआ है।





वहीं कार्यवाही के बाद बड़े सवाल भी उठ खड़े हुए है।??





कि क्या पिंडरई में सिर्फ 2 झोला छाप डॉ है।और भी क्लीनिक को उन को क्यो छोड़ दिया गया ।सबसे बड़ी अवैध क्लिनिक तो बी एम ओ नैनपुर की घर मे चल रही है, जहाँ से सब झोलाछाप डॉ तैर रहे है।इतना अच्छा तालमेल है,कि जिला प्रशासन फेल हो जाये।बीमार पड़ा व्यक्ति पहले झोलाछाप के यहाँ आ जाता है।





लुटाई बढ़ती जा रही





2 से 3 दिन वो लूटता है ठीक तो होने से रहे ।फिर जब मरीज नही ठीक होता तो बकायदे गाड़ी जाती है।।फिर बी एम ओ की क्लिनिक में लुटाई होती है नही तो नागपुर,जबलपुर रिफर कर दिया जाता है।यदि मरीज की सांस उखड़ना तय है तो उसे होस्पिटल में लाकर पटक दिया जाता है।जिस से सब की ढाक दी जाये रक्त जांच,एक्सरा जांच,यूरिन के अलावा अन्य जांच के लिये क्या कोई डिग्री है किसी कर्मचारी के पास ये बड़ा सवाल है।





दवाई की दुकान अलग से समांतर खुली है,कुल मिला के जम कर लूट लो।सब झोलाछाप एक सुर में कह रहे की पहले नैनपुर बी एम ओ की क्लिनिक सील हो।सब एक थाली के चटे बटे हो गए है।नैनपुर विकास खण्ड में कौन कहा झोलाछाप है कौन एम बी बी एस समझ ही नही आता।अभी 1 पोज़िटिव केस का इलाज बी एम ओ की क्लिनिक में हो गया,इस मामले को हम ने सोशल मीडिया में उठाया 2 दिन बी एम ओ की कर्मचारी भी पॉज़िटिव आ गई।।पिंडरई के एक झोला छाप डॉ ने तो सरकारी डॉ श्री अंकित जैसवाल के नाम पर वसूली कर गया उसकी कार्यवाही नही होगी रुपये दे दो, फिर भी कार्य वाही हो गई।





बड़ा सवाल ये है





कि इस लूट की जडे इतनी मजबूत हो गई है कि अवैध क्लिनिक के साथ अब ये जो नए झोलाछाप डॉ हैं उन से वसूली करते है।फिर 1 मामला चिरईडोगरी रेलवे का था जब एक आदिवासी युवा को एक झोलाछाप डॉ ने मार डाला इलाज के नाम पर फिर खुद की गाड़ी में घर छोड़ने गया चेक पोस्ट में टाटरी में पकड़ा गया।।अब जब तत्कालीन कलेक्टर जटिया जी ने 5 सदस्य की टीम बनाई वो जांच भी चल ही रही है।





कुल मिला नैनपुर विकास खण्ड के ग्रामो में जिस में मुख्य रूप से टाटरी,चिरईडोगरी,हीरापुर,रेवाडा,जामगांव,इंद्री,पिंडरई,डिठौरी,पाठा सिहोरा,सहित 11 क्लीनिक है नगर नैनपुर में यहाँ 1 साथ कार्य वाही हो।जब जिला प्रशासन पर लोगो का विश्वस जगेगा। सरकारी सिस्टम इतना कमजोर और लचीली अव्यवस्था का शिकार हो गया है,की झोलाछाप डॉ फिर गाजर घास कुकरमुते जैसे उग ही आते है।





वहीं पत्रकार दीपक शर्मा जी की माने तो जो जांच समिति बनती है छापा मारने जाती है।वो ही झोलाछाप डॉ को मोबाइल कर देते है की आ रहे है क्लीनिक बन्द कर दो।ये तो हाल है।विकास खण्ड नैनपुर में खुद झोलाछाप डॉ को लेकर कलेक्टर मेडम जी होम वर्क करें की कब कितनी बार क्लीनिक सील हुई और किस के आदेश पर वो खुल गई।।इस पर भी बड़े राज फाश होंगे। बहरहाल कलेक्टर जी को साधु वाद आप ने ठोस कार्य वाही की।





अब बारी है,की सरकारी होस्पिटल की विश्वसनीयता कैसे बनी रहे??इस ओर चिंतन हो।जनता इस महत्वपूर्ण सेवाओं के संस्थान से दूर जा के झोलाछाप डॉ से तन,मन,धन,से लूटेगी ही ।





आज 9 जन कोरोना पोज़िटिव की जद में,आज हुई कोरोना रेपिड टेस्टिंग किट में जो महज आधा घण्टे में रिजल्ट दे रही है 9 लोग कोरोना की जद में आ गए जिसमे 1 सेवा दे रहे एक डॉ,1 चपरासी,1 हॉस्पिटल का चालक,शामिल है।।अन्य लोगो मे ग्राम हीरापुर,कामता,जेवनारा,और 1 ब्लॉक कालोनी निवासी शामिल है।





सजग पत्रकार श्री दीपक शर्मा के अनुसार कुल मिलाकर 4 नैनपुर के,और 5 ग्रामीण अंचलो से है।स्वस्थ रहे,सतर्क रहे,मास्क जरूर लगाये,और सोशल डिस्टेन्स का पालन करे।हम अपने दायित्व के परिपालन से बंधे है इस लिए नाम प्रकाशन नही कर रहे है।


लोकप्रिय पोस्ट