Notification

×

ad

ad

अब तक 1लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित हुए मध्यप्रदेश में।

शनिवार, 19 सितंबर 2020 | सितंबर 19, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:33:54Z
    Share

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ते हुए 18 सितंबर को एक लाख तक पहुंच गयी। इनमें अब तक 76,952 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि 1,901 लोगों की मौत हुई है। स्वस्थ होने की दर 76 फीसद और संक्रमितों में मौत की दर 1.89 फीसद है। मतलब यह कि इस बीमारी की चपेट में आने वाले 98 फीसद लोग स्वस्थ हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग ने अनुमान लगाया है कि 31 अक्टूबर की स्थिति में प्रदेश में कुल संक्रमित 2 लाख 59 हजार हो जाएंगे, इसमें 55 हजार इलाज करवा रहे मरीज होंगे।





भारी पड़ा सितम्बर





संक्रमण काल के दौरान से सितंबर सभी महीने पर भारी पड़ा है। अगस्त के मुकाबले सितंबर में रोज दोगुना रोगी मिल रहे हैं। सितंबर में 36,493 लोग कोरोना की चपेट में आए हैं। मार्च से जुलाई तक 31,806 लोग संक्रमित हुए थे। अगस्त में 32,159 और सितंबर के 18 दिनों में ही इतने मरीज मिल गए हैं।





मध्यप्रदेश में कल दिनांक 18  सितंबर तक की स्थिति





  • अब तक संक्रमित 1,00,458
  • अब तक स्वस्थ 76,952
  • इलाज करवा रहे मरीज 21,605
  • अब तक मौत 1,901
  • अब तक लिए गए सैंपल 1,78,2,505




  • स्वस्थ होने की दर 76.60 %
  • संक्रमितों में मौत की दर 1.89%




भारत देश में अन्य राज्यों के मुकाबले मप्र की स्थिति





  • सर्वाधिक मरीजों के मामले में - 16वां
  • सर्वाधिक इलाज करवा रहे मरीजों के मामले में- 13वां




  • सर्वाधिक मौतों के मामले में -10वां
  • सर्वाधिक स्वस्थ मरीजों के मामले में- 16वां




भारत के एक लाख से ज्यादा मरीजों वाले राज्य





महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बंगाल, ओडिशा, तेलंगाना, बिहार, असम, केरल, गुजरात, राजस्थान, हरियाणा और मध्य प्रदेश।





निम्न तरह से बढ़े संक्रमित - 





माह कुल संक्रमित मिले रोजाना औसत मार्च 66 5 अप्रैल 2,559 85 मई 5,464 176 जून 5,504 183 जुलाई 18,213 587 अगस्त 32,159 1,037 सितंबर (18 तारीख तक) 36,493 2,027





खास बात यह है कि इस तरह बढ़ा मौतों का आंकडा - माह कुल मौत रोजाना औसत मार्च 5 .41 अप्रैल 132 4 मई 213 7 जून 261 8 जुलाई 295 10 अगस्त 527 17 सितंबर (18 तारीख तक) 507 28 ज्ञात हो कि : 20 मार्च को जबलपुर में पहला मरीज मिला था।