Notification

×

ad

ad

राम मंदिर भूमि पूजन पर फिर आ सकती है रुकावट , हाई कोर्ट में हुई याचिका दाखिल

शुक्रवार, 24 जुलाई 2020 | जुलाई 24, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:32:44Z
    Share

हमेशा से चुनावी मुद्दा बने अयोध्या के राम लला के मंदिर (Ram Mandir)की भूमि पूजन के कार्यक्रम पर रोक लगाए जाने की मांग की गई है और कहा गया कि कार्यक्रम होने से कोरोना के संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ेगा





प्रयागराज: अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए 5 अगस्त को प्रस्तावित भूमि पूजन पर रोक लगाने की मांग को लेकर मोहम्मद गुफरान, ( Mohammad gufaran ) ने गुरुवार को इलाहाबाद हाई कोर्ट में अर्जी दी . दिल्ली के साकेत गोखले ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस को लेटर पीआईएल भेजी है.





पीआईएल में कहा गया कि भूमि पूजन कोविड-19 के अनलॉक-2 की गाइडलाइन का उल्लंघन है. भूमि पूजन में तीन सौ लोग इकट्ठा होंगे जो कि कोविड के नियमों के खिलाफ होगा. लेटर पिटीशन के जरिए भूमि पूजन के कार्यक्रम पर रोक लगाए जाने की मांग की गई है. कहा गया कि कार्यक्रम होने से कोरोना के संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ेगा.





याचिका में ये भी कहा गया कि यूपी सरकार केंद्र की गाइडलाइन में छूट नहीं दे सकती है. चीफ जस्टिस से लेटर पिटीशन को पीआईएल के तौर पर मंजूर करते हुए सुनवाई करके कार्यक्रम पर रोक लगाए जाने की मांग की गई है. साकेत गोखले कई विदेशी अखबारों में काम कर चुके हैं और सोशल एक्टिविस्ट भी हैं.





हालांकि लेटर पिटीशन को अभी तक चीफ जस्टिस ने सुनवाई के लिए मंजूर नहीं किया है. पिटीशन में राम मंदिर ट्रस्ट के साथ ही केंद्र सरकार को भी पक्षकार बनाया गया है





अधिक जानकारी के लिए हमें टेलीग्राम और ट्विटर पर फोलो करे


ad

लोकप्रिय पोस्ट