Notification

×

ad

ad

खुशखबरी: एक अरब कोरोना वैक्‍सीन बनाएगा भारत शुरू हुई ये प्रकिया !

शुक्रवार, 5 जून 2020 | जून 05, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:32:41Z
    Share


Corona vaccine कौन बनायगा इसकी पूरी दुनिया में होड़ लगी हुई है, corona अपने देश में बहुत तेजी से पैर पसार रहा है, देश में कोरोना के मरीजों की तादाद में लगातार इजाफा हो रहा है । ऐसे में अभी सिर्फ सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करके ही इस महामारी से बचा जा सकता है । करीब 5 महीने से वैज्ञानिक इस महामारी के खिलाफ लड़ने के लिए (Corona vaccine) वैक्‍सीन बनाने में लगे हुए हैं, इतने दिनों की कड़ी महनत के बाद एक अच्‍छी खबर सामने आई है ।





Corona vaccine : बनाएगा भारत शुरू हुई ये प्रकिया -





नई दिल्‍ली: हमारे देश में कोरोना के मरीजों की संख्या में लगातार बढोत्तरी हो रही है । ऐसे में सिर्फ सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करके ही कोरोना नाम की महामारी से बचा जा सकता है । करीब 5 महीने से वैज्ञानिक इस महामारी के खिलाफ लड़ने के लिए वैक्‍सीन बनाने में लगे हुए हैं, जिसके बाद एक अच्‍छी खबर सामने आई है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी Corona ki vaccine बनाने के काफी करीब पहुंच गई है और इसके लिए वह भारत के साथ एक करार भी करने जा रही है।





हमे सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी जिस वैक्सीन पर काम रही है, उसकी सप्लाई के लिए ब्रिटिश स्वीडिश फार्मास्युटिकल कंपनी आस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) भारत की एक कंपनी के साथ करार करने जा रही है । मिली जानकारी के अनुसार, आस्ट्राजेनेका vaccine की सप्लाइ के लिए पुणे स्थित सेरम इंस्टिट्यूट के साथ लाइंसेंस करार करने वाली है। ये दोनों मिलकर 1 अरब वैक्सीन भारत समेत दूसरे एशियाई देशों में पहुंचाएंगे । इनमें से 40 करोड़ वैक्सीन की 2020 के अंत तक सप्लाइ करने का लक्ष्य है।





एसआईआई (SII) के सीईओ के मुताबिक, ‘हम इस वैक्सीन को भारत के साथ-साथ दूसरे छोटी आय वाले देशों में पहुंचाने के लिए एस्ट्राज़ेनेका के साथ साझेदारी करके खुश हैं। पिछले 50 सालों में SII ने विश्व स्तर पर वैक्सीन निर्माण और आपूर्ति में महत्वपूर्ण क्षमता बनाई है ।’





ब्राजील ने ऑक्सफोर्ट की इस वैक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी





कोरोना की वैक्सीन बनाने की रेस में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सटी सबसे आगे है। यहां वैक्सीन का ट्रायल दूसरे फेज में पहुंच गया है। वहीं पुणे स्थित एसआईआई यहां विकसित होने वाली वैक्सीन के साथ काम कर रही है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने कुछ दिनों पहले ही दूसरे और तीसरे फेज के ट्रायल की घोषणा की थी, जिसमें 10,000 लोगों को शामिल किया जाएगा। वहीं ब्राजील ने ऑक्सफोर्ट की इस वैक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी है।





पुणे स्थित एसआईआई यूके की ऑक्सफोर्ड, अमेरिका के कोडेजेनिक्स और ऑस्ट्रेलिया की बायोटेक फर्म थेमिस के साथ कोरोना की वैक्सीन पर काम कर रही है। इसके अलावा SII अपनी खुद की भी वैक्सीन विकसित कर रहा है।





अधिक जानकारी के लिए हमें टेलीग्राम और ट्विटर पर फोलो करे





pan card kaise banaye jate hain 2020




अब तत्काल मिल जाएगा PAN, Aadhaar से होगा e-KYC





real estate sector in hindi




कोरोना महामारी के चलते रियल एस्टेट सेक्टर को मिली राहत