Notification

×

ad

ad

अन्नदाता सावधान : जिले में आज टिड्डी दल ( tiddi dal ) कर सकता है हमला

मंगलवार, 26 मई 2020 | मई 26, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:32:30Z
    Share

seoni tiddi dal :-निगरानी व बचाव के लिए कलेक्टर ने विभिन्न दलों का किया गठन, किसान भी चौकस ( टिड्डी दल कहां से आता है ) राजस्थान से प्रदेश में घुसे टिड्डी दल (tiddi dal) ने सिवनी में भी हड़कंप मचा दी है। जिले में टिड्डियों के हमले (tiddi attack )की आशंका को देखते हुए कलेक्टर ने आनन-फानन बचाव व निगरानी दलों का गठन कर दिया है। कलेक्टर के आदेश के बाद टीमें हरकत में आ गई हैं। किसानों के लिए सलाह जारी कर दी गई है।





tiddi dal बड़े नुकसान की संभावना





सिवनी में जिस टिड्डी दल के हमले की आशंका बताई जा रही वह भीषण नुकसान पहुंचाने वाला है। किसान कल्याण विभाग ने जानकारी दी है कि मंगलवार की सुबह 10 बजे





यह दल जबलपुर होते हुए सिवनी जिले की सीमा में प्रवेश कर सकता है। इसके चलते कलेक्टर डॉ. राहुल हरिदास कटिंग ने विभिन्न टीमें गठित कर दी हैं, जो कि बचाव व निगरानी के लिए हरकत में आ गई हैं।





tiddi attack से बचने के लिय शोर मचाने की सलाह





हजारों-लाखों की संख्या में tiddi dal के सिवनी जिले में आने की आशंका के चलते किसानों को आगाह किया गया है कि यह टिड्डी दल फसलों, फुल एवं वनस्पतियों को खाकर नष्ट कर देता है। जिस जगह यह आक्रमण करते हैं वहां पर फसलों एवं वनस्पतियों को पूर्ण रूप से नष्ट कर देते हैं। 





टिड्डी दल से बचाव के लिए किसानों से पारम्परिक उपाय जैसे शोर मचाना, ध्वनि विस्तारक यंत्रों से उन्हें भगाना, ढोलक, डीजे, ट्रेक्टर का सायलेंसर निकाल कर आवाज करना, थाली एवं टीन के डब्बे बजाने से दल भाग जाता है। इनके बजाने से यह दल नीचे न आकर दूसरे स्थान पर निकल जाएगा। यदि यह रात को रूक जाता है तो ट्रेक्टर चलित स्प्रे पंप से क्लोरोपायरिफॉस, 20 ईसी. दवा 1200 मिली अथवा डेल्टामेथ्रीन 2.8 प्रतिशत ईसी, 600 मिली अथवा लेम्डासायलोधीन 5 प्रतिशत ईसी दवा 400 मिली प्रति हेक्टेयर के मान से स्प्रे करने की सलाह दी गई है। कृषि वैज्ञानिकों की सलाह पर अन्य दवाओं का इस्तेमाल भी किया जा सकता है।





tiddi dal टीम में ये हैं शामिल





कलेक्टर द्वारा टीवी दल की रोकथाम के लिए अनुविभाग स्तर पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व की अध्यक्षता में निगरानी दल का गठन किया है,जिसमें बंधित तहसीलदार, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, संबंधित मुख्य नगर पालिका अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत/नगर परिषद एवं संबंधित विकास खंड के अनुविभागीय अधिकारी कृषि अनुविभागीय अधिकारी वन,वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी तथा वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी को शामिल किया गया है। इसी तरह उक्त दल के आवश्यक सहयोग हेतु कृषि विभाग के अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों/कर्मचारियों को यूटी भी लगाई गई है।





यह भी देखे :- थाना प्रभारी ने किसान को बैल खरीदने दिए 15 हजार |seoni news(Opens in a new browser tab)





जिले में फसल का रकबा





जिले में रबी सीजन का रकबा 3.30 लाख हेक्टेयर का है। इसमें 2.62 लाख गेहूं, चना का 37 हजार और मसूर चना और मटर का 15-15 हजार हेक्टेयर का रकबा है। खरीफ का रकबा 4.10 लाख हेक्टेयर है। इसमें से धान 1.50 लाख और दो लाख हेक्टेयर में मक्का लगाया जाता है। शेष अन्य फसल का रकबा करीब 15 हजार हेक्टेयर है।





आन्न्दाता tiddi dal से सावधान हो जाय यह बहुत नुकसान पंहुचा सकते है





अधिक जानकारी के लिए हमें टेलीग्राम और ट्विटर पर फोलो करे





यह भी देखे :- भारतीय संविधान में है अनेक देशी व विदेशी स्त्रोत | Bharat ka sanvidhan(Opens in a new browser tab)





यह भी देखे :- फ़िल्मी स्टाइल में हुई चोरी ! बम से उड़ाया, फिर नकदी लेकर हुए फरार |mp news(Opens in a new browser tab)


लोकप्रिय पोस्ट