Notification

×

ad

ad

gender gap index 2020 के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

शुक्रवार, 17 जनवरी 2020 | जनवरी 17, 2020 WIB Last Updated 2021-04-01T09:31:58Z
    Share

ग्लोबल जेंडर गैप रिपोर्ट ( gender gap index 2020 )





विश्व आर्थिक मंच (WEF) ने 16 दिसंबर 2019 को अपनी global gender gap index 2020 जारी की .रिपोर्ट का उद्देश्य स्वास्थ्य शिक्षा अर्थव्यवस्था और राजनीति पर महिलाओं और पुरुषों के बीच अंतराल पर प्रगति को ट्रैक करने के लिए एक कंपास के रूप में सेवा करना है.





ग्लोबल जेंडर गैप रिपोर्ट 2020 में 153 देशों की लिंग समानता की दिशा में प्रगति को चार प्रमुख क्षेत्रों ( आर्थिक भागीदारी एवं अवसर, शैक्षिक प्राप्ति, स्वास्थ्य एवं अस्तित्व तथा राजनीतिक सशक्तिकरण )के आधार पर दर्शाया गया है.





global gender gap report में कहा गया है कि दुनिया भर में पूर्ण लिंग समानता अभी भी लगभग 100 वर्ष दूर है रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं को पुरुषों के समान आर्थिक अवसर प्राप्त करने में 257 वर्ष लगेंगे.





हालांकि कई देशों ने राजनीति और शिक्षा जैसे अन्य क्षेत्रों में महिलाओं के लिए अवसर प्रदान करने में प्रगति की है पिछले 108 वर्ष में जब यह रिपोर्ट पहली बार जारी हुई थी तब लिंग समानता में काफी सुधार हुआ है. वैश्विक राजनीतिक क्षेत्रों केवल 25% संसदीय पदों और 21% मंत्री पदों पर महिलाओं का कब्जा है.





इसे भी देखे :- अटल भूजल योजना |योजना के बारे में सम्पूर्ण जानकारी |current affairs





global gender gap index 2020





इस रिपोर्ट के अंतर्गत ग्लोबल जेंडर गैप इंडेक्स 2020 जारी किया गया इसके अनुसार सबसे कम लैंगिक अंतर वाले शीर्ष 10 नीचे दिए गय है - 





रैंक देश स्कोर ( 0-1 )
1आइसलैंड 0.877
2नार्वे 0.842
3फ़िनलैंड 0.832
4स्वीडन 0.820
5निकारागुआ 0.804
6न्यूजीलैंड 0.799
7आयरलैंड 0.798
8स्पेन 0.795
9रवांडा 0.791
10जर्मनी 0.787




भारत संबंधी तथ्य





  • जेंडर गैप इंडेक्स 2020 में भारत को 112 वे स्थान पर रखा गया है . देश के विकास में महिलाओ की भागीदारी की बढ़ती असमानता के बीच लैंगिक समानता के मामले में भारत 4 पायदान नीचे चला गया है.
  • पिछले वर्ष के सूचकांक में भारत को 108 वां स्थान दिया गया था.
  • स्वास्थ्य और आर्थिक मोर्चों पर भारत को निचले पांच में स्थान दिया गया है . gender gap index के अनुसार भारत में कंपनी बोर्डों पर महिलाओं का प्रतिनिधित्व बहुत कम ( 13.8%) है.
  • india भारत ने अपने कुल लिंग अंतर का दो तिहाई स्कोर 66.8% कम कर दिया है. हालांकि भारत के समाज में बड़े पैमाने पर महिलाओं की स्थिति अनिश्चित है.
  • अध्ययन किए गए 153 देशों में भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां आर्थिक अंतर राजनीतिक अंतर से बड़ा है. भारत में आर्थिक लिंगभेद विशेष रूप से गहरा है, केवल एक तिहाई अंतर को कम किया गया है. वर्ष 2006 के बाद से अंतर काफी व्यापक हो गया है.
  • राजनीतिक सशक्तिकरण में भारत 18वें स्थान पर है, और देश में 4 वर्ष में एक महिला या पुरुष ने एक राज्य पर शासन किया है, भारत आर्थिक भागीदारी एवं अवसर में एक समान काम के लिए मजदूरी समानता में 117वां स्थान पर है.
  • भारत में शैक्षिक प्राप्ति में 112वा और स्वास्थ्य एवं उत्तरजीविता में 150 स्थान प्राप्त किया है .
  • भारत में विस्तृत जेंडर गैप धार्मिक और ऐतिहासिक सामाजिक संबंधों के कारण है , यह प्रक्रिया अन्य देशों की तुलना में बहुत धीमी है क्योंकि भारतीय सामाजिक संस्कृति में प्रचलित दृष्टिकोण है .




इन्हें भी देखे One liner gk questions|Current affairs 2020





 निष्कर्ष





global gender gap report 2020 वैश्विक लिंग अंतर की वर्तमान स्थिति और इसे कम करने के प्रयासों और अंतर्दृष्टि का एक व्यापक अवलोकन प्रदान करती है.





वह सूचकांक प्रगति को ट्रैक करने और देशों और विषयों में सर्वोत्तम प्रथाओं को प्रकट प्रकट करने के लिए एक बेंचमार्किंग टूल प्रदान करता है.





इस वर्ष की रिपोर्ट में पाया गया है कि पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष लिंग अंतराल थोड़ा कम हो गया है, फिर भी इसे वर्तमान गति से पूर्ण समानता प्राप्त करने के लिए 99.5 वर्ष की आवश्यकता होगी .





रिपोर्ट में उन देशों में व्यापक प्रदर्शन भिन्नता पर भी प्रकाश डाला गया है जो अंतर्निहित कारकों की एक विविध सारणी के कारण है. यह रिपोर्ट किसी देश के लिंग अंतर और उसके आर्थिक प्रदर्शन के बीच मजबूत संबंध को उजागर करती है और लैंगिक समानता के मामले पर नवीनतम शोध में से कुछ को सारांश करती है.





यह रिपोर्ट नीति निर्माताओं को संदेश देती है कि ऐसे देश जो प्रतिस्पर्धी और समावेशी बने रहना चाहते हैं उन्हें लैंगिक समानता को राष्ट्र की मानव पूंजी विकास का महत्वपूर्ण हिस्सा बनाने की आवश्यकता होगी.





विश्व आर्थिक मंच (WEF)





विश्व आर्थिक मंच WEF सार्वजनिक आर्थिक सहयोग के लिए एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है. इसकी स्थापना प्रो. क्लाउस श्वाब ने मूल रूप से यूरोपियन मैनेजमेंट के रूप में की थी .





इसे वर्ष 1971 में गैर-लाभकारी फाउंडेशन के रूप में स्थापित किया गया था तथा इसका मुख्यालय जेनेवा ( स्विट्जरलैंड ) में है . इसके कार्यालय बीजिंग ( चीन ) और टोक्यो ( जापान) में भी है.





यह मंच शासन के उच्चतम मानकों को कायम रखते हुए वैश्विक जनहित में उधमिता प्रदर्शित करने के अपने सभी प्रयासों में प्रयासरत है.





wef विश्व की 1000 अग्रणी कंपनियों को बेहतर भविष्य के लिए एक मंच प्रदान करता है .





एक सदस्यता संगठन के रूप में उद्योग WEF उद्योग , क्षेत्रीय क्षेत्र और प्रणालीगत मुददों को संबोधित करने के लिए परियोजनाओं और पहलों ( ऑफलाइन और ऑनलाइन ) में व्यवसायो को संलग्न करता है .





गाँधी जी के बारे में परीक्षा उपयोगी महत्वपूर्ण जानकारियाँ | एक बार video जरूर देखे






https://www.youtube.com/watch?v=4CGMJLIsZ9A
जरूर देखे most important जानकारी है

ad

लोकप्रिय पोस्ट